नशा तस्कर से 268 ग्राम हेरोइन बरामद 21/4/24

 

नशा तस्कर से 268 ग्राम हेरोइन बरामद 21/4/24

पश्चिमी दिल्लीः द्वारका जिले के एंटी-नारकोटिक्स सेल ने नशा तस्कर को गिरफ्तार कर उसके पास से 278 ग्राम हेरोइन बरामद की है। हेरोइन की कीमत डेढ़ करोड़ रुपये बताई जा रही है। आरोपित दक्षिणी अफ्रीका के एमेका इकेचुकवु नाइजीरियाई के अनंबरा का रहने वाला है। आरोपित के खिलाफ निहाल विहार थाने में पहले से एक प्राथमिकी दर्ज है। द्वारका जिला पुलिस उपायुक्त अंकित सिंह ने बताया कि एंटी नारकोटिक्स सेल ने डाबड़ी थाना क्षेत्र के महावीर एन्क्लेव स्थित आरोपित के घर पर छापेमारी कर जब उसकी तलाशी ली तो उससे 278 ग्राम हेरोइन बरामद हुई। आरोपित एमेका इकेचुकु ओकोरी ने बताया कि उसके पास दक्षिण अफ्रीका और नाइजीरिया दो जगहों की नागरिकता है। (जासं)नशा तस्कर से 268 ग्राम हेरोइन बरामद 21/4/24

पश्चिमी दिल्लीः द्वारका जिले के एंटी-नारकोटिक्स सेल ने नशा तस्कर को गिरफ्तार कर उसके पास से 278 ग्राम हेरोइन बरामद की है। हेरोइन की कीमत डेढ़ करोड़ रुपये बताई जा रही है। आरोपित दक्षिणी अफ्रीका के एमेका इकेचुकवु नाइजीरियाई के अनंबरा का रहने वाला है। आरोपित के खिलाफ निहाल विहार थाने में पहले से एक प्राथमिकी दर्ज है। द्वारका जिला पुलिस उपायुक्त अंकित सिंह ने बताया कि एंटी नारकोटिक्स सेल ने डाबड़ी थाना क्षेत्र के महावीर एन्क्लेव स्थित आरोपित के घर पर छापेमारी कर जब उसकी तलाशी ली तो उससे 278 ग्राम हेरोइन बरामद हुई। आरोपित एमेका इकेचुकु ओकोरी ने बताया कि उसके पास दक्षिण अफ्रीका और नाइजीरिया दो जगहों की नागरिकता है। (जासं)

दो नाइजीरियाई नागरिकों की आम बुराड़ी में हुए धमाके में मौत : दैनिक जागरण 28-02-2024

जागरण संवाददाता, नई दिल्लीः बुराड़ी स्थित वेस्ट कमल विहार स्थित एक मकान में 23 फरवरी की रात करीब ढाई बजे हुए धमाके से ये नाइजीरियाई नागरिकों की मौत हो गई। दोनों को घायल अवस्था में उनके दी साथी एम्स के आपातकालीन वार्ड में छोड़कर फरार हो गए थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नीको की मौत का कारण है। इस मामले में पुलिस मकार मालिक पर केस दर्ज कर लिया है

मृतकों में से सिर्फ एक पहचान 28 वर्षीय के रूप में हुई है। दूसरे पहचान का प्रयास किया जा रहा है। पुलिस ने नाइजीरियाई दूतावास से संपर्क किया है। वरिष्ठ अधिकारी भी अभी स्पष्ट नहीं बता पा रहे हैं. कि धमाका किस वजह से हुआ फोरेंसिक टीम ने धमाके वाले स्थान से जांच के लिए सैंपल लिए हैं, जिसके आधार पर आगे की कार्रवाई जाएगी

दो नाइजीरियाई नागरिकों की आम बुराड़ी में हुए धमाके में मौत राज्य ब्यूरो जागरण संवाददाता, नई दिल्लीः कुराड़ी स्थित वेस्ट कमल विहार स्थित एक मकान में 23 फरवरी की रात करीब ढाई बजे हुए धमाके से ये नाइजीरियाई नागरिकों की मौत हो गई। दोनों को घायल अवस्था में उनके दी साथी एम्स के आपातकालीन वार्ड में छोड़कर फरार हो गए थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नीको की मौत का कारण है। इस मामले में पुलिस मकार मालिक पर केस दर्ज कर लिया है मृतकों में से सिर्फ एक पहचान 28 वर्षीय के रूप में हुई है। दूसरे पहचान का प्रयास किया जा रहा है। पुलिस ने नाइजीरियाई दूतावास से संपर्क किया है। वरिष्ठ अधिकारी भी अभी स्पष्ट नहीं बता पा रहे हैं. कि धमाका किस वजह से हुआ फोरेंसिक टीम ने धमाके वाले स्थान से जांच के लिए सैंपल लिए हैं, जिसके आधार पर आगे की कार्रवाई

ठगी करने वाला नाइजीरियन गिरोह का सरगना गिरफ्तार

जागरण संवाददाता, देहरादून: देहरादून निवासी वृद्ध महिला से 19 लाख रुपये की ठगी करने वाले नाइजीरियन गिरोह का उत्तराखंड पुलिस की एसटीएफ (स्पेशल टास्क फोर्स) ने पर्दाफाश कर दिया है। गिरोह के सरगना को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है। उसके सात साथियों को नोटिस जारी किए गए • हैं। गिरोह के सरगना से 19 मोबाइल फोन और पांच लैपटाप बरामद हुए हैं। एसटीएफ के एसएसपी आयुष अग्रवाल के अनुसार, देहरादून के मोहित नगर निवासी वृद्धा रेशमा दीवान ने तहरीर दी थी कि उनके मोबाइल पर 20 जनवरी को अज्ञात व्यक्ति ने वाट्सएप काल की और कहा कि वह उनका फेसबुक पर दोस्त है और यूके में रहता है। उन्हें विश्वास में लेकर गिफ्ट भेजने के नाम पर ठगी की गई।

ग्रेटर नोएडा में लैब पकड़ी, 46 किलो ड्रग्स के साथ नौ विदेशी गिरफ्तार

पुलिस का दावा है बरामद माल की कीमत टेरर फंडिंग से जुड़े तार

सूरजपुर स्थित तीन मंजिला मकान 50 हजार रुपये में अफ्रीकी नागरिको ने किराये पर ले रखा था

गटर नौर के सेक्टर स्थित तीन मंजिला मकान में चल रही अंतराष्ट्रीय इस फैक्ट्री का स्व टीम ने भंडाफोड़ कर अफ्रोको मूल के भी आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। उसके कब्जे से 40 किलो रस बरामद हुई है। पुलिस का दावा है कि बरामद इसकी कीमत 300 करोड़ रुपये है।

उत्तर प्रदेश पुलिस ने पहली बार इस की इतनी बड़ी खेप पकड़ी है। फैक्ट्री का संचालन सेब के तरीके से होता था। यही इस बनाई जाती धोनी के सूरजपुर में फैक्ट्री से बरामद ड्रग्स केमिकल व अन्य सामान रण थी। उसको पैकेट के रूप में फ्लाइट से कैलिफोर्निया व नाइजीरिया समेत कई अन्य देश में भेजने की पुष्टि हुई है। इसके अलावा भारत के नाथ ईस्ट में भी सप्लाई होती थी।

उच्च गुणवत्ता वाला इग्स है। सेंट्रल नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के अनुमान पर बरामद इस 300 करोड़ की को धर दबोचा। आंकी गई है इग्स बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाला केमिकल भी बरामद हुआ है।

गौतमबुद्ध नगर पुलिस आयुक्त लक्ष्मी सिंह ने बताया कि इस काटेल, क्रिप्टो करेंसी और टेरर क्रेडिंग से इस फैक्ट्री के तार जुड़े ड्रग्स की फैक्ट्री पिछले एक साल हैं। आरोपितों ने इस बनाने के लिए से चल रही थी सूरजपुर स्थित बेस बना रखा था। यहां एक फैक्ट्री रुपये में अफ्रीकी नागरिकों ने किराए बाद विदेश के अलावा दिल्ली पुलिस पता लगाने में जुटी हुई है भी सप्लाई की जाती थी।

लेबोरेट्री और डिस्ट्रीब्यूशन के लिए तीन मंजिला मकान को 50 हजार सेटअप बनाया था। ड्रग बनाने के पर ले रखा था। इस कार्टेल का एनसीआर में होने वाली रेव पार्टी में डीसीपी ग्रेटर नोएडा साद मियां खान व स्वाट टीम प्रभारी यतेंद्र कुमार

आरोपितों के कब्जे से बरामद 46 इग्स माफिया का पिछले तीन महीने किलो मैथाटामदन (एमटीएमए) से पीछा कर रहे थे जब फैक्ट्री में

• पैकेट में भर कर फ्लाइट से कैलिफोर्निया, नाइजीरिया समेत कई

अन्य देशों में होती थी सप्लाई

केडिंग से जुड़े है। को इस बारे में सूचना दी है। एन नशीले पदार्थ की तस्करी में जेल जा चुका है।

आरोपितों में एक पूर्व में

यह आरोपित हुए गिरफ्तार डेनियल अजूड, मेमो ली जू के एमिली की चिड़ी जीवा जो लेवी सभी मूल के नाइजीरिया के रहने वाले है।

इम्स बनाने की पक्की सूचना मिली तो पुलिस ने दबिश देकर आरोपितों

क्रिप्टो करेंसी से हुआ लेनदेन पकड़े गए अफ्रीकी मूल के नागरिकों के पास कोई बैंक खाता एटीएम या एक साल से चल रही थी फैक्ट्री फाइनेंशियल कागजात नहीं मिले हैं। आरोपित बिना वीजा के रह रहे थे। पूछताछ में पता चला है कि इग्स सप्लाई के बाद मिलने वाली रकम का लेनदेन क्रिप्टो करेंसी के जरिए किया जाता था। आरोपितों के फाइनेंसियल ट्रांजेक्शन और इंटरनेशनल कनेक्शन को भी

पुलिस खंगाल रही है। आरोपितों के बैकग्राउंड और फारवर्ड लिंकेज का पुलिस जल्द ही पर्दाफाश करेगी।

ऐसे बनाते थे ड्रग्स आरोपित नर्वस सिस्टम के इलाज में प्रयोग होने वाली दवा एपाइन को बाकी केमिकल्स के साथ बर्नर मे गर्म करते थे। इसके बाद मैयमटामाइन नामक केमिकल को ऐसीटोन, एथेनाल वा के साथ मिक्स कर साल्युशन बना लेते थेटामाइन को मेनाल व ऐसीटोन के शाल्यूशन के साथ मिलाकर फ्रीज किया जाता था होने के बाद प्योर मैनफेटामाइन तैयार होता था। इसे मैच भी कहने है और यह शक्तिशाली इग होता है। जो शरीर के तंत्रिकात पर असर डालता है आरोपित इस इस को बनाने की विधि देखकर इस विचार करते थे।

झारखंड में कैसे हो रही बांग्लादेशियों की घुसपैठ, हाई कोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब

झारखंड में कैसे हो रही बांग्लादेशियों की घुसपैठ, हाई कोर्ट ने केंद्र से मांगा जवाब

 

पूछा-गृह मंत्रालय ने अब तक क्या की कार्रवाई, झारखंड के जिलों में अवैध वांग्लादेशी घुसपैठ को लेकर दायर की गई है

राज्य ब्यूरो, रांची: बंगाल से सटे झारखंड के जिलों साहिबगंज, पाकुड़, जामताड़ा, गोड्डा और दुमका आदि जिलों में लंबे समय से हो रही बांग्लादेशियों की घुसपैठ को लेकर झारखंड हाई कोर्ट ने केंद्र सरकार से जवाब मांगा है। जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए बुधवार को झारखंड हाई कोर्ट ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से पूछा है कि किन परिस्थितियों में राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में बांग्लादेशी घुसपैठ हो रही है और गृह मंत्रालय ने इसको लेकर अब तक क्या कार्रवाई की है। अदालत ने चार सप्ताह में जवाब

इस संबंध में डेनियल दानिश की ओर से हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की गई है। कोर्ट को बताया गया कि झारखंड में संताल परगना प्रमंडल के कई जिले बांग्लादेश से सटे हुए हैं। उन जिलों में बांग्लादेश के प्रतिबंधित संगठन सुनियोजित षड्यंत्र के तहत

 

घुसपैठ कर रहे हैं। इन इलाकों में घुसपैठिये झारखंड की आदिवासियों लड़कियों से लव जिहाद के शादी करते हैं। इसके बाद संपत्ति पर कब्जा करने की नीयत से उनकी हत्या कर दी जाती है। पहले दाखिल करने का निर्देश दिया है। इस हिंदूबहुल रहे इलाकों में अवैध मामले में 19 जून को होगी। घुसपैठ की वजह से बांग्लादेशी मुस्लिमों की संख्या बढ़ गई है। इन इलाकों में व्यापक जनसांख्यिकीय बदलाव आ गया है। इन जिलों की जनसंख्या असंतुलित हो रही है। ऐसे लोगों का प्रतिबंधित संगठनों से भी संपर्क है। इस कारण ये अपराध को बढ़ावा दे रहे हैं।